Advertisements

अनेक शब्दों के लिए एक शब्द हिंदी में

अनेक शब्दों के लिए एक शब्द पर अबतक कई प्रश्न सामान्य हिंदी के प्रश्नपत्र में पूछे जा चुके है। उन्हीं Anek shabdo ke liye ek shabd One word substitution का संग्रह हम यहां लेकर आये है। जिसमें वो किस परीक्षा में पूछे गए, उनका भी उल्लेख है। इसलिए इन्हें अभी रट ले।

  • अतिथि की सेवा करने वाला – आतिथेयी (UKPCS)
  • अधिक बढ़ा-चढ़ा कर कहना – अतिशयोक्ति, अतियुक्ति (B.Ed.)
  • अधिकार या कब्जे में आया हुआ – अधिकृत (UKPCS)
  • अन्य से सम्बन्ध न रखने वाला – एकान्तिक (UPPCS)
  • अपनी विवाहिता पत्नी से उत्पन्न (पुत्र) – औरस (APO)
  • आकाश चूमने वाला – गगनचुम्बी, गगनस्पर्शी (Low Sub., APO, UPPCS, RAS)
  • आदि से अन्त तक – आद्योपान्त, आद्यन्त (UPPCS, IAS)
  • आभार मानने वाला – आभारी (RAS, UPPCS)
  • आलोचना करने वाला – आलोचक (Upper Sub.)
  • आशा से अधिक/जिसकी आशा न की गई हो – आशातीत (Upper Sub., Low Sub.)
  • इंद्रियों को वश में रखने वाला/जो इन्द्रियों पर विजय प्राप्त कर चुका हो – इंद्रियजित, जितेन्द्रिय (TET)
  • इतिहास जानने वाला – इतिहास-विंद, इतिहासविज्ञ, इतिहासकार (Upper Sub.)
  • इन्द्रियों से परे/इन्द्रियों के पहुँच के बाहर – इन्द्रियाती (UPPCS)
  • उपकार करने वाला – उपकारी (UPPCS)
  • ऊँचे स्वर से उच्चारण किया हुआ – उर्ध्वोच्चारित (UPPCS)
  • एक ही आदमी का अधिकार – एकाधिकार (UPPCS, RAS)
  • ऐसा ग्रहण जिसमें सूर्य परा ढक जाये – खग्रास, सूर्यग्रहण (UPPCS)
  • ऐसी जीविका जो आकस्मिक हो – तदर्थजीविका (UPPCS)
  • कम बोलने वाला – अल्पभाषी, मितभाषी (Low Sub., APO, UPPCS, RAS,)
  • किये हुए उपकार को भूल जाने वाला – कृतघ्न, एहसान, फरामोश (Low Sub., RAS, UPPCS, APO, Asst. Grad Exam.)
  • किसी कार्य के लिए दी जाने वाली आर्थिक सहायता – अनुदान (UKPCS)
  • किसी के पीछे-पीछे चलने वाला/जो पीछे चलता हो – अनुचर, अनुगामी, अनुयायी (IAS, B.Ed.)
  • किसी के बाद उसकी संपत्ति या पद को ग्रहण करने वाला व्यक्ति – उत्तराधिकारी (RAS)
  • कुछ जानने या ज्ञान प्राप्त करने की चाह – जिज्ञासा (UPPCS)
  • गुरु के समीप या साथ रहने वाला विद्यार्थी – अन्तेवासी (UPPCS, B.Ed.)
  • गोद लिया हुआ पुत्र – दत्तक (UPPCS, UKPCS)
  • छोटे से छोटे दोष को खोजने वाला – छिद्रान्वेषी (MPPCS, RAS)
  • जहाँ जाना कठिन हो – दुर्गम (MPPCS, RAS)
  • जहाँ से अनेक मार्ग चारों ओर जाते हैं – चौराहा (IAS)
  • जानने की इच्छा रखने वाला – जिज्ञासु (UPSI, UPPCS, IAS, RAS, Low Sub.)
  • जिनके चार-चार पैर होते हैं – चतुष्पद, चौपाया (APO)
  • जिस पर अनुग्रह किया गया हो – अनुगृहीत (UPPCS, B.Ed.)
  • जिस पर आक्रमण न किया गया हो – अनाक्रांत (UPPCS)
  • जिस पर चिन्ह लगाया गया हो – चिन्हित (UPPCS)
  • जिस पर मुकद्दमा चल रहा हो/ जिस पर अभियोग लगाया गया हो – अभियुक्त, अभियोगी (UPPCS, APO, IAS)
  • जिस पुरुष का ब्याह न हुआ हो/जिसने अभी विवाह न किया हो – कुमार, कुँवारा, कुआँरा (IAS)
  • जिसका इलाज न हो सके – असाध्य (RO)
  • जिसका उत्तर न दिया गया हो – अनुत्तरित (Low Sub., UPPCS)
  • जिसका कभी अन्त न हो – अनन्त (UPPCS, B.Ed.)
  • जिसका किसी भी प्रकार उल्लंघन नहीं किया जा सके – अनुलंघनीय (Low Sub.)
  • जिसका कोई अर्थ न हो – अर्थहीन (UPPCS)
  • जिसका जन्म अण्डे से हो – अण्डज (APO, B.Ed.)
  • जिसका जन्म छोटी जाति (निचले वर्ण) में हुआ हो – अंत्यज (RO)
  • जिसका जन्म पहले हुआ हो (बड़ा भाई) – अग्रज (RAS)
  • जिसका दमन करना कठिन हो – दुर्दम, दुर्दम्य (UPPCS)
  • जिसका निवारण न हो सकता हो – असाध्य (UPPCS, B.Ed.)
  • जिसका परिहार (त्याग) न हो सके/जिसको छोड़ा न जा सके – अपरिहार्य (UPPCS, B.Ed., Low Sub.)
  • जिसका माँ-बाप न हो – अनाथ (IAS, UPPCS)
  • जिसका वचन या वाणी द्वारा वर्णन न किया जा सके/जिसे वाणी व्यक्त न कर सके – अनिर्वचनीय, अवर्णनीय (IAS, UPPCS)
  • जिसका विवाह न हुआ हो – अविवाहित (IAS)
  • जिसकी उपमा न हो – अनुपम, अनुपमा (UPPCS, IAS)
  • जिसकी कोई सीमा न हो – असीम (IAS, UPPCS)
  • जिसकी गहराई या थाह का पता न लग सके – अथाह, अगाध (RAS, UPPCS)
  • जिसकी परिभाषा देना संभव न हो – अपरिभाषित (IAS, B.Ed.)
  • जिसकी पहले से कोई आशा न हो – अप्रत्याशित (UPPCS, APO)
  • जिसके आने की कोई तिथि न हो – अतिथि (IAS, UPPCS)
  • जिसके पास करोड़ों रुपये हों – करोड़पति (B.Ed., IAS)
  • जिसके समान कोई दूसरा न हो – अद्वितीय (RAS, IAS, UPPCS)
  • जिसके सिर पर चन्द्रमा (चन्द्र) है – चंद्रशेखर (UPPCS, RO)
  • जिसके सिर पर बाल न हो – गंजा (Low Sub.)
  • जिसको क्षमा न किया जा सके – अक्षम्य (Low Sub.)
  • जिसने इन्द्रियों पर विजय पा ली हो – जितेन्द्रिय (Upper Sub.)
  • जिसने ऋण चुका दिया हो – उऋण (BPSC)
  • जिसे जीता न जा सके – अजेय (UPPCS, Upper Sub., RO)
  • जिसे बुलाया न गया हो/जो बिना बुलाये आया हो – अनाहूत (IAS, UPPCS)
  • जिसे भुलाया न जा सके – अविस्मृति (IAS)
  • जिसे शब्दों में नहीं कहा जा सके – अकथनीय (UPPCS)
  • जीने की प्रबल इच्छा – जिजीविषा (MPPCS, RAS)
  • जो अच्छे या ऊँचे कुल में उत्पन्न हुआ हो – कुलीन (Low Sub., UPPCS)
  • जो अनुकरण करने योग्य हो – अनुकरणीय (APO)
  • जो अपने काम से जी चुराता हो – कामचोर (MPPCS)
  • जो अपने पैरों पर खड़ा हो – आत्म-निर्भर (UPPCS)
  • जो अभी तक न आया हो – अनागत (IAS, B.Ed.)
  • जो अभी-अभी उत्पन्न हुआ हो – अद्यःप्रसूत (UPPCS)
  • जो अवश्य होने वाला हो – अवश्यम्भावी (APO, UPPCS)
  • जो अवैध सन्तान हो – जारज (UKPCS)
  • जो आगे (दूर) की न सोचता हो – अदूरदर्शी (Upper Sub.)
  • जो आगे (दूर) की सोंचता हो – अग्रसोची, दूरदर्शी (UPPCS)
  • जो आगे की सोचता हो – दूरदर्शी (RAS)
  • जो आदर करने योग्य हो – आदरणीय (IAS)
  • जो इधर-उधर से घूमता-फिरता आ जाए – आगन्तुक (UPPCS, IAS)
  • जो इन्द्रियों को वश में कर ले – इन्द्रिय-निग्रहवान (Upper Sub.)
  • जो इन्द्रियों द्वारा न जाना जा सके – अगोचर, अतीन्द्रीय (IAS)
  • जो ईश्वर को मानता हो – आस्तिक (MPPCS, Low Sub., UPPCS, BPSC, UKPCS)
  • जो ऊपर कहा गया है – उपर्युक्त (IAS)
  • जो कभी नहीं मरता – अमर्त्य, अमर (APO, RAS, IAS)
  • जो कम खर्च करने वाला हो – कंजूस, मितव्ययी (UPPCS, APO)
  • जो कर्त्तव्य से च्युत हो गया हो – कर्त्तव्यच्युत (Upper Sub.)
  • जो कल्पना से परे हो – कल्पनातीत (IAS, BPSC)
  • जो कानून के प्रतिकूल हो/जो विधि के विरुद्ध हो – अवैध, अविधिक (UPPCS, IAS)
  • जो काल से परे हो – कालातीत (IAS)
  • जो किसी वस्तु या व्यक्ति के गुण-दोष की आलोचना करता हो – आलोचक (Upper Sub.)
  • जो कुछ न जानता हो – अज्ञ, अज्ञानी (UPPCS, B.Ed.)
  • जो क्षीण न हो सके – अक्षय (RO)
  • जो खाने योग्य ने हो – अखाद्य (UPPCS)
  • जो खाया जा सके (जो खाने योग्य हो) – खाद्य (UPPCS)
  • जो चिन्ता के योग्य न हो – अचिन्त्य, अचिन्तनीय (RAS)
  • जो छाती/पेट के बल चलता है – उरग, सर्प (Low Sub.)
  • जो दिखायी न पड़े – अदृश्य, अप्रत्यक्ष (UPPCS, IAS)
  • जो दुबारा जन्म लेता हो – द्विज, द्विजन्मा (UPPCS, APO)
  • जो धरती फोड़कर जन्मता है – उद्भिज (Low Sub.)
  • जो न जाना जा सके – अज्ञेय (Upper Sub., UPPCS)
  • जो परम्परा से सुना हुआ हो – आनुश्राविक (UKPCS)
  • जो पराजित न किया जा सके – अपराजेय (UKPCS)
  • जो पहले कभी घटित न हुआ हो – अघटित (IAS)
  • जो पहले कभी न हुआ हो – अभूतपूर्व (IAS, RAS)
  • जो पहले कभी नहीं सुना गया – अनुश्रुत (Low Sub.)
  • जो पहाड़ को धारण करता हो – गिरिधारी, श्रीकृष्ण (IAS)
  • जो बदला न जा सके – अपरिवर्तनीय (Low Sub.)
  • जो बात छिपाई जाए – गोपनीय (UPPCS)
  • जो बीत चुका हो – अतीत (IAS)
  • जो भवन/घर गिर गया हो – खंडहर (Low Sub.)
  • जो भेदा या तोड़ा न जा सके – अभेद्य (Low Sub.)
  • जो मोल लिया हुआ हो – क्रीत (RAS, APO)
  • जो वस्तु किसी दूसरे के पास रखी हो – अमानत (UPPCS)
  • जो विश्वास करने योग्य (लायक) न हो – अविश्वासनीय (Low Sub.)
  • जो व्यय न किया जा सके – अव्यय (Low Sub.)
  • जो शोक करने योग्य न हो – अशोक (UPPCS)
  • जो सदा से चला आ रहा है – अनवरत (IAS)
  • जो सदा से चला आ रहा हो – चिरन्तन, शाश्वत (IAS)
  • जो सब कुछ उदारता से देना जानता है – उदारमना (UPPCS)
  • जो सब कुछ उदारता से देना जानता है – औदार्यदाता (UPPCS)
  • जो सबके अन्तःकारण की बात जानने वाला हो – अन्तर्यामी (MPPCS)
  • जो सबके अन्तःकारण की बात जानने वाला हो – अन्तर्यामी (MPPCS, RAS, UPPCS, IAS)
  • जो समय पर न हो – असामयिक (UPPCS)
  • जो स्वयं का मत मानने वाला हो – आत्मभिमत (UPPCS)
  • जो हिसाब किताब की जाँच करता हो – अंकेक्षक (MPPCS)
  • तीनों कालों (भूत, वर्तमान और भविष्य) को जानने वाला – त्रिकालज्ञ, त्रिकालदर्शी (UKPCS)
  • थोड़ा जानने वाला – अल्पज्ञ (RAS, MPPCS)
  • दोपहर के बाद का समय – अपराह्न (IAS, Upper Sub., UPPCS)
  • धरती (पृथ्वी) और आकाश के बीच का स्थान – अंतरिक्ष (UPPCS)
  • धरती और आकाश के बीच का स्थान – त्रिशंकु (UPPCS)
  • पर्वत के नीचे तलहटी की भूमि – उपत्यका (RAS)
  • पुरुष जो अभिनय करता हो – अभिनेता (MPPSC)
  • बिना वेतन काम करने वाला – अवैतनिक (UPPCS, B.Ed., Low Sub.)
  • भगवान के सहारे अनिश्चित आय – आकाशवृत्ति (UKPCS)
  • भय-शोकादि के कारण कर्तव्य-ज्ञान से रहित/जिसे कर्तव्य न सूझ रहा हो – किंकर्तव्य-विमूढ़ (UPPCS, B.Ed., Low Sub.)
  • मूल्य घटाने की क्रिया – अवमूल्यन (IAS, B.Ed.)
  • राजनीतिज्ञों एवं राजदूतों की कला – कूटनीति (MPPCS)
  • रूप के अनुसार – अनुरूप (UPPCS)
  • लेखन अति उत्तम होना – कलम तोड़ना (UPSI)
  • वह कवि जो तत्काल/तत्क्षण कविता कर डालता हो – आशुकवि (UKPCS, UPPCS)
  • विकृत शब्द/बिगड़ा हुआ शब्द – अपभ्रंश (UPPCS)
  • व्यक्ति जिसका ज्ञान अपने ही स्थान तक सीमित हो/जिसे बाहरी जगत का ज्ञान न हो – कूपमंडूक (UKPCS)
  • व्यर्थ/अनुचित खर्च करने वाला – अपव्ययी (RAS, UPPCS)
  • संध्या काल जब गायें चरकर लौटती हैं/सन्ध्या और रात के बीच का समय – गोधूलि (Upper Sub.)
  • सोच-समझकर कार्य न करने वाला – अविवेकी (UPPCS, RAS)
  • स्त्री जो कविता रचती है – कवयित्री (Low Sub.)
  • स्त्री-पुरुष का जोड़ा/पति एवं पत्नी – दंपति, दंपती (UPPCS)
Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.